Gulzar Shayari in Hindi, गुलज़ार की शायरी- Gulzar Shyari Images

Gulzar Shayari in Hindi, Gulzar Shayari Image, Gulzar Shayari in Hindi on Love

TereMereStatus में आज पेशकश आपके लिए स्पेशल Gulzar Shayari in Hindi, Gulzar Hindi Shayari, Gulzar Ki Shayari, Best Shayari of Gulzar, Shayari of Gulzar in Hindi, Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines, Gulzar Shayari Motivational, Gulzar Shayari Quotes Hindi.

Gulzar Shayari in Hindi For Love

Gulzar Sahab Poetry
Gulzar Sahab Poetry

“आइना देख कर तसल्ली हुई, 

हम को इस घर में जानता है कोई

“Aaina Dekh Kar Tasalli Hui,

Hum Ko Iss Ghar Me Janta Hai Koi.”


“वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर, 

आदत इस की भी आदमी सी है “

“Waqt Rahta Nahi Tik Kar,

Aadat Iss Ki Bhi Aadmi Si Hai.”


कुछ अलग करना हो तो भीड़ से हट के चलिए, 

भीड़ साहस तो देती हैं मगर पहचान छिन लेती हैं

“Kuch Alag Karna Hai Toh Bheed Se Hatt Ke Chaliye,

Bheed Sahas Toh Deti Hai Magar Pehchaan Cheen Leti Hai.”


“बहुत अंदर तक जला देती हैं, 

वो शिकायते जो बया नहीं होती

“Bahut Andar Tak Jala Deti Hai,

Woh Shikayatein Jo Baya Nahi Hoti.”


“मैंने दबी आवाज़ में पूछा? मुहब्बत करने लगी हो?

नज़रें झुका कर वो बोली! बहुत

“Maine Dabee Awaaz Me Poocha? Mohabbat Karne Lagi Ho?

Nazrein Jhuka Kar Woh Boli! Bahut!”


Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

Shayari By Gulzar
Gulzar Poetry

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

“Aankhon Se Aansuo Ke Marasim Purane Hain,

Mehma Yeh Ghar Me Aaye Toh Chubhta Nahi Dhuan.”


यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yun Bhi Ek Baar Toh Hota Ki Samundar Bahta,

Koi Ehsaas Toh Dariya Ki Ana Ka Hota.”


“आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है!”

“Aap Ke Baad Har Ghadi Hum Ne,

Aap Ke Sath Hi Guzari Hain.”


“दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई!”

“Din Kuch Aise Guzarta Hai Koi,

Jaise Ehsaan Utaarta Hai Koi.”


“तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं!”

“Tumhari Khusk Si Aankhe Bhali Nahi Lagti,

Woh Saari Cheeze Jo Tum Ko Rulaye, Bheji Hai.”


Gulzar Shayari Quotes Hindi

Gulzar Sahab poetry on love
Gulzar Poetry

“हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते!!”

“Hath Chhute Bhi Toh Rishte Nahi Chhoda Karte,

Waqt Ki Shakh Se Lamhe Nahi “Toda Karte..


“ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा,
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है!!”

“Jami Sa Dusra Koi Sakhee Kaha Hoga,

Jara Sa Beez Utha Le Toh Ped Deti Hai..”


“काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी!!”

“Kaanch Ke Peeche Chand Bhi Tha Aur Kaanch Ke Upar Kai Bhi,

Teeno The Hum Woh Bhi The Aur Main Bhi Tha Tanhai Bhi..”


“खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं,
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है!!”

“Khuli Kitaab Ke Safhe Ulat Te Rahte Hain,

Hawa Chale Na Chale Din Palat Te Rahte Hain..”


Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *